Wednesday, October 07, 2009

803 : Baanjh, Barren Woman by Gulzar, translated Pavan Varma, Penguin Poetry

बाँझ

कोई चिंगारी नही जलती कही ठंडे बदन में
साँस के टूटे हुआ तागे लटकते है गलें से
बुलबुले पानी के अटके हुए बर्फाब लहू में
नींद पथराई हुयी आंखों पे बस राखी हुई हैं
रात बेहिस हैं, मेरे पहलू में लकड़ी सी पड़ी हें

कोई चिंगारी नहीं जलती कहीं ठंडे बदन में
बाँझ होगी वोह कोई, जिसने मुझे जनम दिया हैं

Barren Woman


No Spark burusts to flame in this cold body,
Broken threads of breath hang from my throat
Bubbles of water are caught in my frozen blood
Sleep lies perched on my eyes turned to stone
The night is still, it lies with me like a piece of wood

No spark bursts to flame in this cold body
She who gave me birth must have been some barren woman.

Related Posts by Categories



Widget by Hoctro | DreamyDonkey

No comments: